Shardiya Navratri 2022 : शारदीय नवरात्रि के पहले दिन बन रहा है अद्भुत संयोग -जानिए इसका ज्योतिषीय महत्व

Shardiya Navratri 2022 : शारदीय नवरात्रि के पहले दिन बन रहा है अद्भुत संयोग -जानिए इसका ज्योतिषीय महत्व

 
.

 हिंदू पंचांग के अनुसार, आश्विन मास की प्रतिपदा तिथि (Navratri 1st Day 2022) को नवरात्रि शुरू होजाते है और फिर नवमी तिथि तक चलते हैं। भारत में इसे शारदीय नवरात्रि के नाम से जानते हैं। नवरात्रि में नौ दिनों तक मां दुर्गा के नौ अलग-अलग स्वरूपों को पूजा जाता है। इन नौ दिनों में मां आदिशक्ति की अराधना करने के लिए लोग कलश स्थापना करते हैं।  इस साल शारदीय नवरात्रि के पहले दिन खास संयोग बन रहा है, जिसके वजह से इस दिन का महत्व और भी बढ़ गया है।

जानिए शारदीय नवरात्रि शुभ मुहूर्त व अन्य खास बाते। मां दुर्गा को समर्पित यह त्योहार देश के सभी हिस्सों में अलग तरीके से मनाया जाता  है। नवरात्रि के इस त्योहार की रौनक पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, असम, बिहार और यूपी समेत देश के कई राज्यों में देखने को मिल जाती है। शारदीय नवरात्रि को धर्म की अधर्म और सत्य की असत्य पर जीत का प्रतीक माना गया है।

ऐसे में  माता रानी  अपने भक्तों को शक्ति, ज्ञान और सुख प्रदान करती हैं। इस साल 2022 में शारदीय नवरात्रि 26 सितंबर से शुरू होगी। यह  नवरात्रि 26 सिप्टेबर से 5 अक्टूबर तक चलेंगे। एक वर्ष में चार नवरात्र होते हैं, जिनमें से दो गुप्त और हैं दो हैं प्रवेश नवरात्रि होते है ।

शुक्ल और ब्रह्म योग का अद्भुत संयोग इस वर्ष शारदीय नवरात्रि पर शुक्ल और ब्रह्म योग का अद्भुत संयोग बन रहा है।हिंदू कैलेंडर के अनुसार 26 सितंबर के शुक्ल योग सुबह 08:06 बजे तक रहेगा। इसके बाद ब्रह्म योग शुरू होगा। ज्योतिष में शुक्ल और ब्रह्मा की पूजा शुभ मानी जाती है ।

From Around the web