Shani Ke Upay:जूते-चप्पल से जुड़े शनि के ये खास उपाय, हर समस्या होगी दूर

Shani Ke Upay:जूते-चप्पल से जुड़े शनि के ये खास उपाय, हर समस्या होगी दूर

 
.

Shani Ke Upay: शनिदेव की कृपा जिस भी व्यक्ति पर पड़ती है, वह उसे रंक से राजा बना देती है। वहीं शनिदेव अगर किसी व्यक्ति से नाराज हो जाए तो उसे बर्बाद होने में देर नहीं लगती है। इसलिए लोग शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए तरह-तरह के उपाय करते रहते हैं। जिन लोगों की कुंडली में शनि ग्रह कमजोर होता है या शनि दोष होता है, उन्हें शनि के उपाय या शनि के टोटके जरूर करने चाहिए। ज्योतिष शास्त्र में शनि को प्रसन्न करने के लिए कई तरह के उपाय बताए गए हैं। ऐसे ही कुछ उपाय जूते-चप्पल से भी जुड़े हुए हैं। आइए जानते हैं कि वे उपाय कौन से हैं।

करें यह उपाय प्रसन्न होंगे शनि देव

जिन लोगों पर शनि की साढ़ेसाती या ढैय्या चल रही हो या उनकी कुंडली में शनि ग्रह कमजोर स्थिति में हो तो उन्हें शनिवार के दिन गलती से भी जूते चप्पल नहीं खरीदना चाहिए।

कभी भी फटे या टूटे हुए जूते-चप्पल नहीं पहनने चाहिए। घर के बाहर भूलकर भी खराब जूते-चप्पल न पहनें। किसी भी शुभ या इंटरव्यू में साफ और अच्छी स्थिति वाले जूते-चप्पल पहनकर जाना चाहिए। इससे अशुभ परिणाम मिलते हैं।

किसी शुभ या इंटरव्यू के समय साफ और सुंदर जूते पहनने चाहिए. मान्यता है कि इससे अच्छे और सकारात्मक परिणाम आते हैं।

किसी भी व्यक्ति को शनिवार के दिन चमड़े के काले जूते खरीदने से बचना चाहिए। ऐसा करने से आपके जीवन में और मुसीबतें बढ़ जाएंगी।

शास्त्रों में कहा गया है कि किसी को उपहार या भेंट में जूते चप्पल नहीं देना चाहिए. इससे धन का क्षय होता है।

यह भी मान्यता है कि यदि जातक पर शनि की साढ़ेसाती या ढैय्या का प्रकोप है तो उसे शनिवार के दिन किसी गरीब और जरूरतमंद व्यक्ति को काले जूते या चप्पल का दान करना उत्तम होता है. मान्यता है कि इससे शनि की महादशा का प्रभाव कम होता है।

शनि की कृपा पाने के लिए काले जूते या चप्पल पहनकर हनुमान जी के मंदिर में जाएं और वे जूते या चप्पल वहीं छोड़कर आ जाएं। इससे शनि के कष्टों से राहत मिलेगी और जीवन में सुख-समृद्धि आएगी।

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

From Around the web