गलत दिशा में जूते रखने से बदल सकती है भाग्य की रेखा,इस दिशा में रखने से नहीं होगा लक्ष्मी का वास

गलत दिशा में जूते रखने से बदल सकती है भाग्य की रेखा,इस दिशा में रखने से नहीं होगा लक्ष्मी का वास

 
.

वास्तु शास्त्र के अनुसार जूते रखने की एक सही दिशा होती है। अगर आप इन्हें सही दिशा में नहीं रखेंगे तो इसका सीधा असर आपकी आर्थिक स्थिति पर पड़ेगा।वास्तु शास्त्र के अनुसार आपकी भाग्य रेखा आपके हर काम से जुड़ी होती है। कई मामलों में कड़ी मेहनत के बाद भी आपको तरक्की नहीं मिलती और चिंता की समस्या बनी रहती है। इसका एक कारण आपके पैरों के जूते भी हो सकते हैं। वास्तु शास्त्र घर से जुड़ी चीजों को रखने की दिशा बताता है।

यदि यह सब वास्तु के अनुसार किया जाए तो सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। घर में सुख-समृद्धि आती है। अगर चीजें वास्तु के अनुसार नहीं होती हैं तो घर में नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश होने लगता है। वास्तु दोष घर में कलह, आर्थिक संकट, बीमारी और अशांति का कारण बनता है। जूते घर से जुड़ी कई चीजों के साथ-साथ वास्तु से भी जुड़े होते हैं। जब हम जल्दी में घर आते हैं तो अपने जूते-चप्पल कहीं भी उतार देते हैं।

जिसे वास्तु शास्त्र के अनुसार गलत बताया गया है,जब हम बाहर से आते हैं तो हमारे जूते-चप्पल में धूल-मिट्टी रहती है। अगर ये गंदे जूते उत्तर या पूर्व दिशा में रखे जाएं तो घर की सारी सकारात्मक ऊर्जा खत्म हो जाती है। याद रखें कि गलती से भी जूते बेडरूम में नहीं रखने चाहिए। ऐसे घर में कभी भी मां लक्ष्मी का वास नहीं होता।वास्तु शास्त्र के जानकार बताते हैं कि जब भी आप जूते खरीदें तो उसके रंगों पर खास ध्यान दें।

अगर आप तरक्की करना चाहते हैं तो नीले रंग के जूते पहनना शुरू कर दें। इस बात का ध्यान रखें कि जब भी जूते पहनें तो उन्हें साफ रखें।कोशिश करें कि गंदे और फटे जूते न पहनें फैशन के इस दौर में आप पीले रंग के जूते न पहनें तो अच्छा रहेगा। वास्तु शास्त्र के अनुसार पीले रंग के जूते पहनना अच्छा नहीं है। पीला रंग बृहस्पति ग्रह का माना जाता है। इसके कारण जन्म कुंडली में गुरु की स्थिति अशुभ हो जाती है।

From Around the web