सुहागिन महिलाऐं इन बातो का ध्यान रखते हुए ही बिछिया पहने - यह गलतिया आपके पति को कर सकती है बर्बाद

सुहागिन महिलाऐं इन बातो का ध्यान रखते हुए ही बिछिया पहने - यह गलतिया आपके पति को कर सकती है बर्बाद

 
.

सोलह श्रृंगार में बिछिया को सर्वोच्च स्थान प्राप्त है और ऐसा माना जाता है कि इसके बिना श्रृंगार अधूरा है। शादी के मंडप में बिछिया पहनाने की रस्म को भी बहुत अधिक महत्व दिया जाता है। ज्योतिष में शादी के बाद महिलाओं को कुछ विशेष गहने और श्रृंगार धारण करने की सलाह दी जाती है और उनमें से एक है बिछिया।सुहागिन महिलाओं को बिछिया पहनते समय कुछ नियमों का पालन करना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इसका सीधा संबंध पति की सफलता से जुड़ा है और यदि महिलाएं बिछिया पहनते समय कुछ बातों को ध्यान में नहीं रखती हैं तो उनके पति को इसका नुकसान हो सकता है।

ज्योतिष के अनुसार कभी भी महिलाओं को पैर में सोने की बिछिया नहीं पहननी चाहिए। ऐसा माना जाता है कि भगवान विष्णु की प्रिय धातु सोना ही है और सोने को लक्ष्मी का रूप माना जाता है। यदि महिलाएं पैर में सोने की बिछिया पहनती हैं तो माता लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं और पति को धन की हानि होती है। महिलाएं अपनी पहनी हुई बिछिया कभी किसी को उतार के ना दे। ऐसा माना जाता है कि इस गलती से पति को आर्थिक नुकसान होने के साथ घर में दुर्भाग्य आता है।

इसलिए अपनी बिछिया कभी दूसरों को न दें। महिलाओं को कभी भी ऐसी बिछिया नहीं पहननी चाहिए जिससे आवाज आए। ऐसी बिछिया घर की उन्नति में बाधा उत्पन्न कर सकती है। इस तरह की बिछिया से पति पर कर्ज चढ़ सकता है। शादीशुदा महिला को टूटी हुई बिछिया नहीं पहननी चाहिए। ऐसी बिछिया पति के लिए अपशगुन मानी जाती है और इसका सीधा प्रभाव पति के करियर पर होता है। इससे पति को धन हानि झेलनी पड़ सकती है।

बिछिया पहनने के लिए सबसे अच्छी उंगली अंगूठे के बाद वाली ही मानी जाती है। आप इसके अलावा किसी भी उंगली में बिछिया पहन सकती हैं लेकिन इस उंगली को कभी भी खाली नहीं छोड़ना चाहिए क्योंकि ये पति के लिए आर्थिक हानि ला सकती है।

From Around the web