लंबे समय तक मोज़े पहनने से स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव पड़ेगा और क्या इसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं?

लंबे समय तक मोज़े पहनने से स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव पड़ेगा और क्या इसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं?

 
.

पूरा उत्तर भारत कड़ाके की ठंड और शीतलहर से जूझ रहा है। पर्वतीय क्षेत्रों में वर्षा, हिमपात, कोहरे का प्रकोप होता है तथा तापमान शून्य के आसपास बना रहता है। ऐसे में लोग ठंड से बचने के लिए गर्म कपड़े, जैकेट और जुराबें पहन रहे हैं।कई लोग रात में खुद को गर्म रखने के लिए मोजे पहनकर सो रहे हैं।

ब्लड प्रेशर प्रभावित होता है

विशेषज्ञों का कहना है कि ठंड में सोते समय मोजे पहनना सामान्य बात है। ठंड से बचने के लिए लोग ऐसा करते हैं और इससे कोई परेशानी भी नहीं होती है। पैरों को ठंड से बचाने के लिए यह आदत अच्छी है, क्योंकि ठंड रक्त वाहिकाओं को सिकोड़ सकती है और इससे ब्लड प्रेशर प्रभावित होता है। डॉ आरआर दत्ता, एचओडी इंटरनल मेडिसिन, पारस हॉस्पिटल्स, गुरुग्राम कहते हैं कि सबसे महत्वपूर्ण यह है कि आप क्या महसूस करते हैं। अगर आपको लगता है कि मोजे ठंड से बचा रहे हैं, अच्छी नींद आ रही है तो ठीक है। इसके विपरीत अगर आप बिना मोजे पहने अच्छी नींद ले रहे हैं, आपको ठंड नहीं लग रही है और आपके पैर भी ठंडे हैं तो यह भी ठीक है। मोज़े पहनना या न पहनना आपके ऊपर है।

सावधान रहना होगा... नहीं तो अंजाम भुगतना पड़ेगा

डॉ. आदित्य एस चौटी, सीनियर कंसल्टेंट, इंटरनल मेडिसिन, फोर्टिस हॉस्पिटल, बैंगलोर का कहना है कि अपने पैरों को गर्म और सुरक्षित रखने के लिए सर्दियों के दौरान रात में मोज़े पहनना एक अच्छा विचार है। इससे पैरों की देखभाल होती है, फटी एड़ियां ठीक हो जाती हैं। जुराबों की वजह से ठंड में पैरों में ब्लड सर्कुलेशन सही रह सकता है। लेकिन याद रखें कि मोज़े साफ होने चाहिए। केवल सूती मोजे का ही इस्तेमाल करना चाहिए, सिंथेटिक कपड़े के मोजे परेशानी बढ़ा सकते हैं।read also:गलती से भी मत लेना विटामिन डी की गोलियां ,अपना सकते हैं यह तरीका

मोज़े पहनने से समस्या हो सकती है

इधर, यशोदा अस्पताल, हैदराबाद के इंटरवेंशनल पल्मोनोलॉजी एंड स्लीप मेडिसिन के डॉ. विश्वेश्वरन बालासुब्रमण्यम का कहना है कि जरूरी नहीं है कि मोजे पहनकर सोना हमेशा फायदेमंद होता है। कुछ लोगों के लिए या कुछ परिस्थितियों में यह आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। टाइट मोजे पहनने से ब्लड सर्कुलेशन पर बुरा असर पड़ सकता है। पैरों की स्थिति, चोट आदि पर भी मोज़े का बुरा असर हो सकता है। मोजे के ज्यादा इस्तेमाल से शरीर का तापमान बढ़ सकता है। सिंथेटिक कपड़े पर चकत्ते हो सकते हैं।

From Around the web