हार्मोनल बैलेंस के लिए मददगार है यह सीड्स,जानिए कैसे

हार्मोनल बैलेंस के लिए मददगार है यह सीड्स,जानिए कैसे

 
.

महिलाओं को अक्सर कई बार हार्मोनल उतार-चढ़ावों का सामना करना पड़ता है, जिससे उनके पीरियड्स भी समय पर नहीं आते हैं। ऐसे में अधिकतर महिलाएं दवाइयों का सहारा लेती हैं। लेकिन अगर आप नेचुरल तरीके से अपने शरीर के हार्मोन को बैलेंस करना चाहती है तो ऐसे में सीड्स साइकिलिंग का सहारा लिया जा सकता है।कुछ अध्ययनों से यह पता चलता है कि सीड्स ना केवल आपके शरीर को लाभ पहुंचाते हैं, बल्कि सीड्स साइकिलिंग के जरिए बॉडी हार्मोन को बैलेंस व सही तरह से स्रावित किया जा सकता है। दरअसल, सीड्स में ओमेगा-3 फैटी एसिड, प्रोटीन, फैट व मिनरल्स होते हैं, जो बॉडी के हार्मोन को बैलेंस करने में मदद करते हैं।

हार्मोन एक महिला के सबसे अच्छे दोस्त हैं, जो मूड, भावनाओं, रिप्रोडक्‍शन, नींद, एनर्जी, त्वचा, बाल और वजन को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। फायदों की लिस्‍ट अंतहीन है। हार्मोन की क्रियाएं परिष्कृत होती हैं और उन्हें काम करने के लिए सही संतुलन में होना चाहिए। बीज और नट्स पर स्नैकिंग की अवधारणा तब सामने आई जब पेशेवर पोषण विशेषज्ञों द्वारा वजन पर नजर रखने वालों को फाइबर की एक स्वस्थ खुराक के लिए ऐसा करने की सिफारिश की गई थी जो आहार में महान पोषण मूल्य जोड़ने के साथ-साथ लंबे समय तक भरा हुआ महसूस कराता है।

कद्दू के बीज

यदि आप बीज-चक्र के दृष्टिकोण से कद्दू के बीजों के उपयोग को देखते हैं, तो आपके मासिक धर्म चक्र के कूपिक चरण के दौरान हर दिन 1 से 2 बड़े चम्मच ताजे पिसे हुए कद्दू के बीजों का सेवन करने की सलाह दी जाती है। इस चरण के दौरान, आपके शरीर में प्रोजेस्टेरोन के स्तर में गिरावट और आपके गर्भाशय की परत को मोटा करने के लिए एस्ट्रोजन के स्तर में वृद्धि देखी जाती है। इन हार्मोनल परिवर्तनों के परिणामस्वरूप, आप अपनी सेक्स ड्राइव में वृद्धि देख सकते हैं, आपकी त्वचा की तैलीयता में कमी आ सकती है और यहां तक ​​कि आप अधिक ऊर्जावान महसूस कर सकते हैं।

अलसी के बीज

ये बीज सबसे अच्छा हार्मोन संतुलन बीज हैं और यह आपको सूजन, थकान, मूड स्विंग्‍स, ऐंठन, ब्रेस्‍ट कोमलता आदि जैसे विभिन्न स्वास्थ्य मुद्दों में मदद करते हैं। ये ओमेगा -3 फैटी एसिड और लिग्नन नामक एंटीऑक्सीडेंट का एक बड़ा स्रोत हैं। यह फर्टिलिटी बढ़ाने में मदद करते हैं।

From Around the web