पीरियड्स में गंदगी से प्राइवेट पार्ट में इन्फेक्शन होने का है खतरा ,शारीरिक संबंध से पार्टनर में संक्रमण, जानें योनि की सफाई का तरीका

पीरियड्स में गंदगी से प्राइवेट पार्ट में इन्फेक्शन होने का है खतरा ,शारीरिक संबंध से पार्टनर में संक्रमण, जानें योनि की सफाई का तरीका

 
p

पीरियड्स में हर कोई पैड यूज करता है पैड खरीदने से पहले डेट जरूर चेक कर लें 2 साल से ज्यादा पुराना पैड अगर उमस और नमी वाली जगह पर है तो उसमें बैक्टीरिया पनपते हैं पुराना सैनेटरी पैड इस्तेमाल करने से फंगस की वजह से इन्फेक्शन होता है इससे प्राइवेट पार्ट में जलन, खुजली और लाल रैशेज हो जाते हैं

p

पैकिंग खुले हुए पैड्स को समय से इस्तेमाल करना चाहिए वातावरण में मौजूद नमी को सोखकर पैड्स बैक्टीरिया के पनपने की जगह बन जाते हैं पहले के समय में महिलाएं उन दिनों में कपड़ा इस्तेमाल करती थीं उन्हें रोजाना कपड़ा धोने और कड़ी धूप में सुखाने के लिए कहा जाता था ताकि प्राइवेट पार्ट में इन्फेक्शन न हो

p

सामान्य दिनों के मुकाबले पीरियड्स में वजाइना का pH बदलता है इसलिए इस दौरान पर्सनल हाइजीन का ख्याल रखें पानी और माइल्ड सोप से ही सेंसिटिव एरिया की सफाई करें हार्ड एंटीसेप्टिक सलूशन बहुत तेज खुशबू वाला साबुन यूज न करें क्योंकि शरीर का यह हिस्सा बेहद नाजुक होता है यह चीजें गुड बैक्टीरिया को खत्म कर देती हैं वजाइनल एरिया में गुड बैक्टीरिया बैड बैक्टीरिया का खात्मा करते हैं हार्ड एंटीसेप्टिक सलूशन बहुत तेज खुशबू गुड बैक्टीरिया को खत्म करते हैं और संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है प्राइवेट पार्ट में गीलेपन से बैक्टीरिया ग्रो न करें इसके लिए कपड़े से इस जगह को क्लीन करें और ड्राई अंडरवियर पहनें ध्यान रखें. सेंसिटिव एरिया को रगड़ कर नहीं पोंछना है

p

हैवी ब्लीडिंग होती है तो 2 घंटे में पैड बदलें नहीं तो 3 से 4 घंटे में इसे चेंज करें देर तक एक ही पैड लगाए रहने से योनि और जांघ में अंदर की तरफ इन्फेक्शन हो सकता है  6 घंटे से ज्यादा समय तक टैम्पून लगाए रहने से टॉक्सिक शॉक सिंड्रोम की समस्या हो सकती है कुछ लोग पीरियड्स में भी संबंध बनाने से परहेज नहीं करते इस समय ब्लीडिंग की वजह से इन्फेक्शन का खतरा बढ़ जाता है प्राइवेट पार्ट में फंगल इन्फेक्शन है तो संबंध बनाने के दौरान यह पार्टनर को भी हो सकता है 

From Around the web