स्वाद बढ़ाने में ही नहीं बल्कि थायरॉइड के लिए भी मददगार हैं धनिया

स्वाद बढ़ाने में ही नहीं बल्कि थायरॉइड के लिए भी मददगार हैं धनिया

 
.

जड़ी बूटी धनिया का उपयोग विभिन्न अंतरराष्ट्रीय व्यंजनों में किया जाता है। थायराइड की समस्या के लिए यह एक आम घरेलू उपचार है धनिया का पानी। यह पूरे भारत में हर घर में मिलना काफी सुविधाजनक है। इसमें एंटीऑक्सिडेंट सहित बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं, और यह सिर्फ अपनी सुगंध के लिए ही नहीं जाना जाता है। इसके अतिरिक्त, धनिया एक प्राकृतिक उत्पाद है जो पाचन में सहायता करता है और सूजन को कम करता है।

ऐसा माना जाता है कि धनिया में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन थायरॉइड को प्राकृतिक रूप से ठीक करने और थायरॉइड हार्मोन के उत्पादन को नियंत्रित करने का काम करते हैं। तो चलिए जानते हैं धनिया या धनिया के पत्तों या बीजों के रस का सेवन करने से क्या-क्या लाभ होता है-सारा दिन बैठना आपके स्वास्थ्य के लिए भयानक है अभी

वजन कम करने में सहायक

ऐंठन, दस्त, उल्टी और मतली जैसी पाचन समस्याओं में उपयोगी

सूजन और आंतों की गैसों को कम करना

विटामिन का बेहतरीन सोर्स और प्रतिरक्षा को बढ़ावा देना

शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालना

ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करना

बालों के झड़ने को कम करना, बालों को मोटा और घना बनाना

त्वचा की समस्याओं जैसे मुहांसे या पिगमेंटेशन को ठीक करनासारा दिन बैठना आपके स्वास्थ्य के लिए भयानक है अभी

क्या है थायरॉइड ग्लैंड

थायरॉइड तितली के आकार का एक ग्लैंड होता है, जो श्वास नली के ऊपर स्थित है। थायरॉइड ग्लैंड थ्योरिकसिन नाम का एक हार्मोन बनाती है, जिससे हमारे शरीर में मेटाबॉलिज्म बढ़ते हैं। साथ ही ये बॉडी में सेल्स को भी कंट्रोल करता है। थायरॉइड 2 प्रकार के होते हैं। पहला Hyperthyroid (हाइपोथायरॉइड), जिसमें टी3 सारा दिन बैठना आपके स्वास्थ्य के लिए भयानक है अभीऔर टी4 तेजी से बढ़ने लगते हैं। वहीं, दूसरा Hypothyroid (हाइपोथायरॉइड), जिसमें टी3 और टी4 तेजी से घटने लगता है। थायरॉयड ग्रैंल्ड न सिर्फ आपके विकास और मेटाबॉलिज्म को प्रभावित करता है, बल्कि आपके हृदय, मस्तिष्क, गुर्दे, वैस्कुलर सिस्टम, रक्तचाप और पाचन तंत्र को भी प्रभावित करता है।

From Around the web