Physics Walla :घर बिका, झुग्गी में रहे, फिर 5 साल में बना डाली 8000 करोड़ की कंपनी

Physics Walla :घर बिका, झुग्गी में रहे, फिर 5 साल में बना डाली 8000 करोड़ की कंपनी

 
.

 सफलता की जब बात आती है तो देश में अलग अलग नाम सामने आते हैं आज हम एजुकेशन में सफलता पाने वाले एक ऐसे ही शख्स की बात कर रहे हैं । हम बात कर रहे हैं फिजिक्स वाला के फाउंडर और सीईओ अलख पांडेय हैं । उनका जन्म 2 अक्टूबर 1991 को उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में हुआ था । अपने स्कूल के दिनों से ही, पांडे को हमेशा पढ़ाने का शौक रहा । उन्होंने IIT में एडमिशन लेने का प्रयास किया लेकिन प्रवेश परीक्षा में असफल रहे. पांडे ने कॉलेज छोड़ने के बावजूद एक कोचिंग संस्थान में फिजिक्स के टीचर के तौर पर अपना काम शुरू किया ।

बचपन और तकदीर की साइकिल  
 अलख तीसरी क्लास में थे जब इलाहबाद (अब प्रयागराज) में उनका आधा घर बिक गया । उस उम्र में उन्हें आभास हुआ कि परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहा है. पिताजी सरकारी ठेकेदार थे। इसलिए काम कभी आता, कभी नहीं आता. तीसरी से छठी क्लास में आते-आते पूरा घर बिक गया । लेकिन अलख नाम के बालक को ये सुकून था कि घर बिकेगा तो नई साइकिल मिलेगी. पिताजी ने वादा जो किया था । मगर नई साइकिल पर चढ़कर तकदीर नहीं बदलने वाली थी, ये अलख को तब पता पड़ा जब किराए का नया घर शहर के ऐसे इलाके में लिया गया जो, अलख के शब्दों में कहें तो 'स्लम' यानी झुग्गी था ।अपने पुराने टीवी को बनाए Smart Tv वो भी बहुत कम कीमत में,फिर जमकर चलेगा इंटरनेटघर की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए अलख ने आठवीं क्लास में ट्यूशन पढ़ाना शुरू किया । ट्यूशन का ये सिलसिला कॉलेज तक चलता रहा । जैसे-जैसे बड़े होते गए, अपने से छोटी क्लास के स्टूडेंट्स को ट्यूशन पढ़ाते रहे. तकदीर की साइकिल अंततः स्पीड पकड़ने वाली थी ।
2016 में Physics Wallah ने ऑनलाइन पढ़ाना शुरू किया। ये वो दौर था जब सोशल मीडिया पर अगले 2-3 साल बाद आने वाली वीडियो कॉन्टेंट की बाढ़ की आहट सुनाई पड़ने लगी थी। ऑनलाइन मौजूदगी की शुरुआत के लिए ये सबसे अच्छा दौर था। और अलख के पास तो सक्सेस का फ़ॉर्मूला भी था। जो था औसत परफॉरमेंस वाले स्टूडेंट्स पर ज्यादा मेहनत कर उन्हें स्टार परफ़ॉर्मर बनाना।

From Around the web