जयपुर को भारत का गुलाबी शहर क्यों कहा जाता है

जयपुर को भारत का गुलाबी शहर क्यों कहा जाता है

 
.
 आज जयपुर का स्थापना दिवस है। शहर 295 साल का हो गया है। स्थापना के वक्त 9 मील में बसा जयपुर शहर अब परकोटे से बाहर कई किलोमीटर दूर निकल गया है। शुरूआत में जयपुर को 1 से 2 लाख की आबादी के लिए बसाया गया था, अब मेट्रो सिटी के रूप में बढ़ते-बढ़ते जयपुर की आबादी 70 लाख के पार जा चुकी है। लेकिन इसके विस्तार की सम्भावनाएं आज भी बेशुमार है। जयपुर में तीन जगहों को यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साइट का दर्जा हासिल है। इनमें जयपुर की ओल्ड सिटी, आमेर फोर्ट और जंतर मंतर शामिल हैं। 


जयपुर भारत का एक ऐतिहासिक शहर है जिसके दो प्रसिद्ध उपनाम हैं, 'भारत का पेरिस' और अधिक लोकप्रिय एक 'पिंक सिटी'। जयपुर शहर को एक सहूलियत के बिंदु से देखने या इसकी ऐतिहासिक इमारतों और सड़कों के माध्यम से चलने से आपको पता चलेगा कि यह गुलाबी रंग के रंगों में समान रूप से पहना हुआ है।यह शहर आम पर्यटकों, संस्कृति ट्रिपर्स, साहित्यिक कलाकारों, इतिहास प्रेमियों, वास्तुकला के प्रति उत्साही और कला और फोटोग्राफी के शौकीनों के लिए एक समान है।इसका प्यारा 'गुलाबीपन' इसे एक अंतरंग और दृश्य आनंद देता है। कवियों ने जयपुर की देदीप्यमान सुंदरता के बाद प्रेरित कविताएँ लिखी हैं और दुनिया भर के आगंतुकों ने अपने यात्रा वृतांतों में इसकी महिमा के लिए विशेष प्रशंसा की है।

जयपुर का नाम कैसे पड़ा ?

आमेर के राजा जयसिंह द्वितीय अपनी राजधानी को आमेर से नीचे समतल मैदानी भाग में स्थानांतरित करना चाहते थे। तब उन्होंने 1727 में जयपुर शहर की नींव रखी। लेकिन तब उनके नाम पर बने शहर का नाम सवाई जैपुर था। फिर नाम बदलते-बदलते जैपुर हुआ। आखिर में इसका नाम बोलचाल में आसानी के नजरिए से जयपुर हो गया। स्थानीय ढूंढ़ाड़ी भाषा में आज भी पुराने लोग इसे जैपर कहते हैं।

क्यों बसाया गया जयपुर ?

महाराज सवाई जयसिंह द्वितीय को नाहरगढ़ की पहाड़ी के नीचे 100 एकड़ में फैले जंगल बहुत प्रिय थे। वह शिकार करने का शौक रखते थे। शिकार गोदी भी बनाई गई थी। लोगों की बसावट बढ़ने लगी तो आमेर छोटा लगने लगा। अपनी प्रजा का विस्तार करने, शहर को प्रमुख व्यापार का केंद्र बनाने और दूरगामी सोच रखते हुए उन्होंने भविष्य के एक शहर की कल्पना अपने नाम से की। तय किया कि राजधानी आमेर के पास एक सुनियोजित और वेल प्लांड शहर बताया जाए। उनकी सोच का नतीजा जयपुर के रूप में वर्ल्ड मैप पर आया।

From Around the web