दूध बेचने वाला ये शख्स आज है 54 हजार करोड़ के बैंक का मालिक

दूध बेचने वाला ये शख्स आज है 54 हजार करोड़ के बैंक का मालिक

 
c

चंद्रशेखर घोष बंधन बैंक के फाउंडर और मालिक हैं. आज इस बैंक को चालू हुए 7 साल हो गए हैं. 23 अगस्त 2015 को अरुण जेटली ने इस बैंक को लॉन्च किया था. बैंक की मार्केट वैल्यू करीब 54 हजार करोड़ रुपये है. इनका जन्म 1960 में त्रिपुरा के अगरतला में हुआ था। घोष के पिता मिठाई की एक छोटी सी दुकान चलाते थे. घोष ने बचपन से ही आर्थिक तंगी देखी. घोष ने बांग्लादेश ढाका के विश्वविद्यालय से सांख्यिकी में मास्टर्स की डिग्री ली . उनका परिवार मूल रूप से बांग्लादेश से है और आजादी के समय वे शरणार्थी बनकर त्रिपुरा आ गए . ढाका में अपनी पढ़ाई पूरी करने बाद उन्होंने पहला काम भी वहीं शुरू किया.

c

चंद्रशेखर ने अपनी 12वीं तक की पढ़ाई ग्रेटर त्रिपुरा के एक सरकारी स्कूल से की. ग्रैजुएशन करने के लिए वह बांग्लादेश चले गए. ढाका यूनिवर्सिटी से 1978 में स्टैटिस्टिक्स में ग्रैजुएशन किया. फीस और कॉपी-किताबों के लिए घोष ट्यूशन पढ़ाया करते थे। अपनी पहली कमाई से उन्होंने अपने पिता के लिए एक शर्ट खरीदी .

p

मास्टर्स करने के बाद उन्हें ढाका के एक इंटरनेशनल डेवलपमेंट नॉन प्रॉफिट ऑर्गैनाइजेशन में जॉब मिल गई. यह संगठन बांग्लादेश के छोटे-छोटे गांवों में महिलाओं को सशक्त करने का काम करता था। उन्होंने BRAC के साथ लगभग डेढ़ दशक तक काम किया और 1997 में कोलकाता आ गए . 1998 में उन्होंने विलेज वेलफेयर सोसाइटी के लिए काम करना शुरू कर दिया. यह संगठन लोगों को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने के लिए काम करता था.

bb

2009 में घोष ने बंधन को रिजर्व बैंक द्वारा NBFC यानी नॉन बैंकिंग फाइनैंस कंपनी के तौर पर रजिस्टर्ड करवा लिया. उन्होंने इस पहल से लगभग 80 लाख महिलाओं की जिंदगी बदल दी. घोष ने बैंकिंग का लाइसेंस पाने के लिए आवेदन कर दिया. RBI ने एक लायसेंस बंधन को दे दिया . 2015 से बंधन बैंक ने पूरी तरह से काम करना शुरू कर दिया.
 

From Around the web