अब चुनाव जितने के बाद भी रोहित राजस्थान के सयुक्त सचिव पद पर नहीं रहे

अब चुनाव जितने के बाद भी रोहित राजस्थान के सयुक्त सचिव पद पर नहीं रहे

 
g

राजस्थान में छात्र संध चुनाव में जबरदस्त वाकया सामने आया है। जयपुर में 26 अगस्त को हुए छात्रसंध चुनाव में राजस्थान कॉलेज में रोहित चौधरी संयुक्त सचिव के पद पर चुनाव जीते थे लेकिन चुनाव जितने के 9 दिन बाद ही रोहित फर्स्ट ईयर में ही फेल हो गए है। ऐसे में अब चुनाव जितने के बाद भी रोहित अब संयुक्त सचिव नहीं रह पाएगे। 

g

वही 27 अगस्त को जारी हुए रिजल्ट में राजस्थान कॉलेज में अध्यक्ष पद पर लक्ष्यराज सिंह चूडावत ने जीता और उपाध्यक्ष पद पर राहुल चौधरी ,महासचिव पद पर राहुल कुमार मीणा जीते थे। छात्रसंध चुनाव में रोहित ने सबसे ज्यादा 940 वोट हासिल किये थे। वही रोहित के खिलाफ चुना लड़ रहे विवेक शुक्ल तीसरे नंबर रहे। जिन्हे महज 321 वोट मिले।वही रोहित के बाद सबसे ज्यादा 368 वोट नोटा को पड़े थे। यूनिवर्सिटी प्रशाशन द्वारा सयुक्त सचिव के पद पर किसी भी प्रत्याशी को निर्वचित्त नहीं किया गया है। ऐसे में अगले चुनाव तक राजस्थान कॉलेज में सयुक्त सचिव के पद को खत्म कर दिया गया है 

h

कोरोना के कारन पिछले 2 साल बाद राजस्थान में छात्रसंध चुनाव हुए थे। इन चुनावो में राजस्थान के 14 विश्व विधालयो में एक भी विश्व विधालय में NSUI का प्रत्याशी अध्यक्ष पद पर चुनाव नहीं जित सका था।वही राजस्थान यूनिवर्सिटी में निर्दलीय निर्मल चौधरी ने राजस्थान सरकार के मंत्री मुरारीलाल मीणा की बेटी निहारिका को चुनाव हराकर nsui  को तीसरे और abvp को चौथे नंबर पर पंहुचा दिया छात्र संध चुनाव के मुख्य चुनाव अधिकारी प्रोफ़ेसर हर्ष ने बताया की रोहित के बाद कोई छात्र नेता रहता है तो उसे संयुक्त के पद सोपा जाता है। लेकिन रोहित के बाद नोटा पर भी सबसे ज्यादा वोट मिले है। ऐसे में नोटा को सयुक्त सचिव का पद नहीं दिया सकता है। इसलिए अगले चुनाव तक सयुक्त सचिव कुर्सी खली रहेगी। 

From Around the web