NITI-AAYOG लांच करेगा e-AMRIT एप - इलेक्ट्रिक वहां चालकों के लिए बड़ा फायदा

NITI-AAYOG लांच करेगा e-AMRIT एप - इलेक्ट्रिक वहां चालकों के लिए बड़ा फायदा

 
.

NITI AAYOG द्वारा एक रिपोर्ट भी जारी की है जिसमें कहा गया है कि इलेक्ट्रिक वाहनों की बढ़ती मांग के कारण भारत का ऊर्जा भंडारण अब तक के उच्चतम स्तर तक पहुंचने की संभावना है। नीति आयोग के सीईओ परमेश्वरन अय्यर ने कहा कि भारत में ईवी इंफ्रास्ट्रक्चर का विकास, सरकार के साथ-साथ ऑटो उद्योग और विदेशी भागीदारी से भारत के ईवी अपनाने को अगले दशक में तेजी से बढ़ने में मदद मिलेगी।नीति आयोग द्वारा साझा की गई  रिपोर्ट के मुताबिक, इस दशक के आखिर तक भारत में 600 गीगावाट घंटे की बैटरी स्टोरेज क्षमता होगी।

रिपोर्ट में कहा गया है, "हमारे विश्लेषण के आधार पर, भारत में बैटरी स्टोरेज की कुल संचयी क्षमता 2030 तक 600 GWh होगी, जो कि बेस केस परिदृश्य को देखते हुए और भारत में बैटरी स्टोरेज को अपनाने के लिए ईवी और कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स जैसे सेगमेंट में मांग प्रमुखता से बढ़ने का अनुमान है।" केंद्रीय एजेंसी ने इस मुद्दे पर जागरूकता बढ़ाने के लिए E-Amrit  नाम के एक मोबाइल एप की घोषणा की है।

ई-अमृत अब तक इलेक्ट्रिक वाहन  के लिए एक पोर्टल हुआ करता था जिसका मकसद ईवी के सभी पहलुओं के लिए वन-स्टॉप-शॉप बनना था। नया एप एंड्रॉयड-आधारित स्मार्टफोन के लिए जल्द ही गूगल प्लेस्टोर पर लॉन्च किया जाएगा। इसका यह फायदा होगा कि e-AMRIT एप यूजर्स को इंगेजमेंट टूल्स जैसी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करता है जो उन्हें इलेक्ट्रिक वाहनों के लाभों का आकलन करने, बचत का निर्धारण करने और भारतीय इलेक्ट्रिक वाहन बाजार और उद्योग में विकास के बारे में सभी जानकारी उनकी उंगलियों पर हासिल करने में सक्षम बनाता है।

'एडवांस्ड केमिस्ट्री सेल बैटरी रीयूज एंड रिसाइक्लिंग मार्केट इन इंडिया' शीर्षक वाली रिपोर्ट में कहा गया है कि, "भारत में, इलेक्ट्रिक वाहन , स्थिर भंडारण और कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स जैसे क्षेत्रों को बैटरी स्टोरेज को अपनाने के लिए प्रमुख मांग चालक होने का अनुमान है।" रिपोर्ट में कहा गया है कि बिजली ग्रिड में परिवहन और बैटरी ऊर्जा भंडारण का विद्युतीकरण बैटरी की मांग के विकास में प्रमुख चालक होने की उम्मीद है।

From Around the web