बैंक ग्राहकों के लिए आई खुशखबरी,खाते में मिनिमम बैलेंस मेंटेन करने की समस्या हुई खत्म

बैंक ग्राहकों के लिए आई खुशखबरी,खाते में मिनिमम बैलेंस मेंटेन करने की समस्या हुई खत्म

 
.

अगर आपको भी कभी अकाउंट में मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं करने पर पेनाल्टी चुकानी पड़ी है तो ये खबर आपको खुश कर देगी।जी हां, अगर आने वाले समय में सबकुछ ठीक रहा तो खाते में मिनिमम बैलेंस रखने की समस्या से निजात मिलने वाली है। मिनिमम बैलेंस लिमिट अलग-अलग बैंकों में अलग-अलग होती है। हाल ही में केंद्र सरकार की ओर से जनधन खाते खोले गए। इस तरह के अकाउंट में मिनिमम बैलेंस मेंटेन करने की कोई बाध्यता नहीं होती है।

हो सकता है कि इसे खत्म करने का फैसला लिया जाए

वित्त राज्य मंत्री भगवंत कराड द्वारा हाल ही में न्यूनतम शेष राशि बनाए रखने का प्रावधान किया गया है। उन्होंने कहा कि बैंकों का निदेशक मंडल मिनिमम बैलेंस (न्यूनतम राशि) नहीं रखने वालों के खातों से जुर्माने को खत्म करने का फैसला ले सकता है।कराड ने एक सवाल के जवाब में कहा कि बैंक पूरी तरह स्वतंत्र निकाय हैं। बैंकों का बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स बैलेंस के लिए पेनल्टी खत्म करने का फैसला ले सकता है।read also:जानिए टेस्ला नाम के पीछे एक बड़ी कहानी, एलन मस्क ने बनाई थी रणनीति

अकाउंट में मिनिमम बैलेंस

हाल ही में मीडिया द्वारा वित्त राज्य मंत्री कराड से अकाउंट में मिनिमम बैलेंस मेंटेन करने से जुड़ा सवाल पूछा गया था। मीडिया ने सवाल किया था कि क्या केंद्र बैंकों को उन खातों पर कोई जुर्माना नहीं लगाने का आदेश देने पर विचार कर रहा है जिनमें जमा न्यूनतम निर्धारित स्तर से कम है। इस पर उन्होंने कहा कि यह फैसला बैंकों को लेना चाहिए। अगर बैंकों की तरफ से यह फैसला लिया जाता है तो इसका फायदा छोटे-बड़े सभी बैंकों के ग्राहकों को मिलेगा।

From Around the web