D. Subbarao On Bank Privatisation - पूर्व गवर्नर ने जताई चिंता ,देश के सभी सरकारी बैंकों के निजीकरण पर करना होगा काम

D. Subbarao On Bank Privatisation - पूर्व गवर्नर ने जताई चिंता ,देश के सभी सरकारी बैंकों के निजीकरण पर करना होगा काम

 
s

भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर डी. सुब्बाराव ने बैंकों के निजीकरण को लेकर एक बड़ा सुझाव दिया है देश में सरकारी बैंकों के निजीकरण को लेकर बहस चल रही है पूर्व गवर्नर डी सुब्बाराव ने सभी बैंकों के निजीकरण के लिए सरकार को एक रुपरेखा तैयार करने का सुझाव दिया है

p

सुब्बाराव ने कहा कि सार्वजानिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण के लिए ज्यादा बड़ा दृष्टिकोण अपनाने की जरूरत नहीं है उन्होंने आगे कहा- ‘हमारे पास सभी सरकारी बैंकों का निजीकरण करने के लिए 10 साल की समयसीमा में एक रूपरेखा होनी चाहिए

b

इससे सभी स्थिति का अनुमान लगा सकेंगे सरकार को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को कंपनी का रूप देने के बार में भी सोचना चाहिए ताकि वे समान रिजर्व बैंक विनियमन के दायरे में आ जाएं सरकारी बैंकों के निजीकरण से भारतीय अर्थव्यवस्था पर दो तरीके से असर होगा

p

उन्होंने कहा- ‘सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक सामाजिक उद्देश्यों को चलाने के दायित्व से मुक्त होकर निजी बैंकों की तरह अधिक से अधिक मुनाफा कमाने का प्रयास कर सकेंगे इससे बैंकिंग प्रणाली में सुधार होगा लेकिन इससे फाइनेंशियल इनक्लूजन और प्रायोरिटी सेक्टर लोन प्रभावित हो सकते हैं’

From Around the web