Bank Loan- बैंक में लोन है बकाया तो आपके लिए है बड़ी खुशखबरी

Bank Loan- बैंक में लोन है बकाया तो आपके लिए है बड़ी खुशखबरी

 
.

जिन ग्राहकों का बैंक में कर्ज बकाया है उनके लिए अच्छी खबर है। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने वन टाइम लोन सेटलमेंट से जुड़ी एक जानकारी साझा की है। बोर्ड ने कहा है कि अब बैंकों और वित्तीय संस्थानों को एकमुश्त कर्ज निपटान और कर्ज माफी पर 10 फीसदी टीडीएस काटने की जरूरत नहीं होगी।डेस्क सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेज ने वन टाइम लोन सेटलमेंट से जुड़ी एक जानकारी साझा की है। बोर्ड ने कहा है कि अब बैंकों और वित्तीय संस्थानों को एकमुश्त कर्ज निपटान और कर्ज माफी पर 10 फीसदी टीडीएस काटने की जरूरत नहीं होगी।

सीबीडीटी ने कहा है कि इस साल के बजट में लाए गए नए सेक्शन 194ए के तहत अब बोनस और राइट्स इश्यू जारी करने के लिए टीडीएस काटने की जरूरत नहीं है।यह नियम 1 जुलाई से लागू है, सीबीडीटी ने जानकारी दी है कि यह नया खंड 1 जुलाई, 2022 से लागू हो गया है। बैंकों ने कर्ज निपटान और कर्ज माफी पर टीडीएस काटने के नियमों पर आपत्ति जताई थी। बैंकों ने कहा कि टैक्स से जुड़े इस लेन-देन से उनका बोझ और बढ़ जाता है।कुछ संस्थानों को दायरे से बाहर रखा गया है सीबीडीटी के मुताबिक, कई वित्तीय संस्थानों को इस प्रावधान से बाहर रखा गया है।

टीडीएस पर सीबीडीटी के स्पष्टीकरण के बाद अब बैंक राहत की सांस लेंगे। अब बैंकों को टैक्स संबंधी लेनदेन के लिए अतिरिक्त खर्च नहीं करना पड़ेगा। सीबीडीटी ने जानकारी साझा करते हुए कहा कि बैंकों ने बोर्ड से अनुरोध किया था कि बोनस और राइट्स शेयरों से शेयरधारकों को किसी भी तरह का फायदा न हो, इसीलिए यह फैसला लिया गया है।

दूतावास और उच्चायोग को मिलेगा लाभ सीबीडीटी ने अपनी गाइडलाइन में बताया है कि धारा 194आर के तहत दूतावास और उच्चायोग को भी छूट का लाभ मिलेगा। लेकिन इसमें भी एक शर्त लगाई गई है। अब अगर कोई कंपनी दूसरे को उपहार देती है, जैसे कि यदि कोई व्यक्ति उपहार के रूप में कार प्राप्त कर रहा है , तो वह कटौती का दावा कर सकता है धारा 194आर के तहत 10 प्रतिशत टीडीएस पर कटेगा।

From Around the web