नौ दिन पहले बाजवा की बहू बनी थी अरबपति, छह साल में पाकिस्तानी आर्मी चीफ का परिवार हुआ मालामाल

नौ दिन पहले बाजवा की बहू बनी थी अरबपति, छह साल में पाकिस्तानी आर्मी चीफ का परिवार हुआ मालामाल

 
.

बाजवा के करीबी और विस्तारित परिवार के सदस्यों ने एक नया अंतरराष्ट्रीय व्यापार शुरू किया, विदेशों में पूंजी स्थानांतरित की और विदेशी संपत्तियां खरीदीं। इस प्रक्रिया में, लाहौर की एक युवती सीओएएस की बहू बनने से नौ दिन पहले अरबपति बन गई, जबकि उसकी अन्य तीन बहनें ज्यों की त्यों रह गईं। इस युवती, महनूर साबिर को 02 नवंबर, 2018 को अपनी शादी से नौ दिन पहले 23 अक्टूबर, 2018 को गुजरांवाला में आठ डीएचए प्लॉटों का बैक-डेट आवंटन मिला, यह तभी संभव है जब किसी के पास डीएचए द्वारा अधिग्रहित भूमि का स्वामित्व हो।2018 में इसी दिन लड़की 2015 की पिछली तारीखों में फिर से एक कॉन्स्टिट्यूशन वन ग्रैंड हयात अपार्टमेंट की मालकिन भी बनी। यह वही समय था जब साकिब निसार द्वारा इस संदिग्ध परियोजना को वैध करने से कुछ समय पहले कई राजनेताओं को संविधान एक अपार्टमेंट दिया गया था जनरल के परिवार ने लाहौर के साबिर "मिठू" हमीद (महानूर के पिता और बाजवा के बेटे के ससुर) के साथ संयुक्त व्यापार उद्यम भी शुरू किया और उसी वर्ष हमीद ने पाकिस्तान के बाहर पूंजी स्थानांतरित करना और विदेशों में संपत्ति खरीदना शुरू कर दिया।

 bajwa (9)

जनरल की पत्नी आयशा गुलबर्ग ग्रीन्स इस्लामाबाद और कराची में बड़े फार्महाउस, लाहौर में कई आवासीय प्लॉट और डीएचए योजनाओं में वाणिज्यिक प्लॉट और प्लाजा के साथ एक बहु-अरबपति बन गईं। जब बाजवा सीओएएस थे तब उनकी पत्नी डीएचए लाहौर के फेज IV और फेज VI में दो कमर्शियल प्लाजा की मालकिन बनीं। जनरल की पत्नी अपने युनाइटेड स्टेट्स डॉलर (यूएसडी) खातों में पैसे (लगभग आधा मिलियन डॉलर) रखती थीं।अरबपति हो चुकी हैं बाजवा की पत्नी फैक्ट फोकस ने दावा किया कि बाजवा की पत्नी आयशा भी अरबपति बन चुकी हैं। उन्होंने गुलबर्ग ग्रीन्स इस्लामाबाद और कराची में बड़े फार्महाउस, लाहौर में कई प्लॉट, डीएचए स्कीम में कमर्शियल प्लॉट और प्लाजा खरीदे हैं। रिपोर्ट के अनुसार, बाजवा के आर्मी चीफ रहते हुए उनकी पत्नी डीएचए लाहौर के फेज IV और फेज VI में दो कमर्शियल प्लाजा की मालकिन बनीं। उनकी पत्नी के अमेरिकी खातों में करीब आधा मिलियन डॉलर पैसे जमा हैं।
संपत्ति छिपाने के लिए पत्नी को मिली चेतावनी
एफबीआर (Federal Board of Revenue) रेकॉर्ड बताते हैं कि अपनी संपत्ति की जानकारी छिपाने के लिए जनरल की पत्नी को कई बार चेतावनी दी जा चुकी है। फैक्ट फोकस के अनुसार इन रेकॉर्ड्स का ब्योरा फॉलो-अप रिपोर्ट में जारी किया जाएगा। वेबसाइट का दावा है कि बाजवा के परिवार ने 2018 में एक तेल कारोबार की शुरुआती की, Taxx Pakistan, जिसका हेडक्वार्टर दुबई में था। कुछ ही महीनों में यह बिजनेस पूरे पाकिस्तान में फैल गया।

From Around the web