AK-630:INS vikrant पर लगाई गई दुनिया कि सबसे खतरनाक और होश उड़ा देने वाली तोप

AK-630:INS vikrant पर लगाई गई दुनिया कि सबसे खतरनाक और होश उड़ा देने वाली तोप

 
.

भारतीय नौसेना के नए स्वदेशी विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रांत पर दुनिया की सबसे खतरनाक एके-630 तोप लगाई गई है। यह बंदूक कंप्यूटर से जुड़ी होती है, जो दुश्मन के निशाने की ओर घूमती है और गोलियां चलाती है। आइए जानते हैं क्या है इस तोप की ताकत और रेंज? AK 630 CIWS गन को भारतीय नौसेना के पहले स्वदेशी विमानवाहक पोत INS विक्रांत पर तैनात किया गया है। यह तो पता नहीं है कि कितनी बंदूकें लगाई गई हैं, लेकिन इसके स्थापित होने से युद्धपोत की सुरक्षा बढ़ गई है। हालांकि पहले से ही जानकारी मिल रही थी कि विक्रांत पर ऐसी चार तोपें लगाई जाएंगी।

AK 630 CIWS गन हथियार प्रणाली के करीब है। यह एक विशेष प्रकार की रोटरी तोप है। जो शत्रु के लक्ष्य की ओर बढ़ते हुए उस पर गोलियां चला देता है। यह हमला इतना तेज है कि इसकी गोलियों से बचना मुश्किल है। इस तोप का वजन करीब 1800 किलो है। इसका बैरल यानि नली 57 से 64 इंच की हो सकती है। इसे चलाने के लिए सिर्फ एक आदमी की जरूरत होती है। यह चारों दिशाओं में किसी भी कोण से घुमाकर दुश्मन के लक्ष्य पर हमला कर सकता है।

इसकी फायरिंग रेंज 4000 राउंड प्रति मिनट से लेकर 10 हजार राउंड प्रति मिनट तक है। रेंज 4000 से 5000 मीटर यानी चार से पांच किलोमीटर है। लक्ष्य के अपने दायरे में आते ही वह खुद ही फायरिंग शुरू कर देता है। इसकी गोलियों के लिए इसमें एक बेल्ट लगाई जाती है। 1000 राउंड से इस बेल्ट में 4000 राउंड तक का समय लगता है।

भारत सरकार ने इसके लिए स्वदेशी टैबलेट का निर्माण किया है। ये गोलियां 30 मिलीमीटर की हैं। इकोनॉमिक एक्सप्लोसिव्स लिमिटेड के सीएमडी सत्यनारायण नुवाल ने कहा कि हमने इन गोलियों की पहली खेप भारतीय नौसेना को भेज दी है। इन गोलियों के बारे में नौसेना के उप प्रमुख वाइस एडमिरल एसएन घोरमडे ने कहा कि देशी गोलियों से विदेशी गोलियों की सोर्सिंग का खर्च बच जाएगा। यह भारत की निजी रक्षा कंपनियों के लिए एक बड़ी उपलब्धि है।

From Around the web