सड़ी हुई नदी में फल-फूल रही है मगरमच्छ की ये प्रजाति, वैज्ञानिक इनकी ताकत देखकर हैरान

सड़ी हुई नदी में फल-फूल रही है मगरमच्छ की ये प्रजाति, वैज्ञानिक इनकी ताकत देखकर हैरान

 
c

ज़हरीले पानी में किसी भी जानवर का जिंदा रहना मुश्किल होता है। लेकिन मोटी चमड़ी वाले मगरमच्छ इस पानी में आराम से रह रहे हैं। मगरमच्छों की एक प्रजाति जिसे 'खतरे में' रखा गया है वह मध्य अमेरिका की सबसे प्रदूषित नदियों में से एक में रह रही है। इस नदी के हालात सीवर जैसे हैं और ये कोस्टा रिका की राजधानी में है। ऐसे हालातों में भी मगरमच्छ की यह प्रजाति फल-फूल रही है, जो वैज्ञानिकों के लिए आश्चर्य की बात है। 

2000 अमेरिकी मगरमच्छ इस जहरीली नदी में जी रहे हैं

c

ये नदी काफी गंदी हो चुकी है। करीब 2000 अमेरिकी मगरमच्छ इस जहरीली नदी में जी रहे हैं। यह इलाका सबसे ज्यादा दूषित है ।  लेकिन इससे मगरमच्छों की आबादी पर कोई असर नहीं पड़ा है। टारकोल्स नदी कोस्टा रिका में सबसे प्रदूषित नदी है। यह मध्य अमेरिका की सबसे ज्यादा दूषित नदिय नदियों में से एक है। इसमें भारी धातु, नाइट्राइट, नाइट्रेट और बड़ी मात्रा में मानव अपशिष्ट पाए जा सकते हैं। 

काफी संख्या में मौजूद हैं मगरमच्छ 

c

दशकों के शिकार और प्राकृतिक आवास खत्म होने की वजह से दुनिया में मगरमच्छों की केवल 5000 प्रजातियां ही बची हैं जो 18 देशों में हैं।  हाल में इस प्रजाति के मगरमच्छों की संख्या में वृद्धि हुई है। कोस्टा रिका में पाए जाने वाले इन मगरमच्छों की आबादी एकदम स्वस्थ है और ये यहां काफी संख्या में हैं। 

इन मांसाहारी मगरमच्छों को 'जीवित जीवाश्म' कहते हैं

c

ये मगरमच्छ समुद्र से आने वाली मछलियों को खाते हैं और धूप में पड़े रहते हैं। इन मांसाहारी मगरमच्छों को 'जीवित जीवाश्म' कहते हैं। इस नदी के मगरमच्छ विदेशी यात्रियों के लिए मुख्य आकर्षण हैं। जो जीवों को करीब से देखने के लिए नाव से यात्रा करते हैं। कोस्टा रिका का पर्यावरण अच्छा है। इसका एक तिहाई क्षेत्र संरक्षित है। 98 प्रतिशत रीन्यूएबल एनर्जी है और यहां 53 प्रतिशत जंगल हैं। देश को असल में पब्लिक पॉलिसी की ज़रूरत है जिसका उद्देश्य पूरी तरह से वन्यजीवों की रक्षा करना है।  

From Around the web