इस अनोखे देश में नहीं है एक भी मच्छर : वजह जान कर चौक जाएंगे आप

इस अनोखे देश में नहीं है एक भी मच्छर : वजह जान कर चौक जाएंगे आप

 
.

पूरी दुनिया में हर साल 10 लाख से ज्यादा लोग मच्छर के काटने से होने वाली बीमारिया जैसे की डेंगू और मलेरिया  के कारण मरते है। दुनियाभर में मछरो की 3 हजार से ज्यादा प्रजातिया किसी भी बाकी प्राणी की तुलना में सबसे ज्यादा बीमारिया फैलती है। हलाकि, शायद आपको ये नहीं पता होगा की इस दुनिया में  एक देश ऐसा है जहा मच्छर  होते ही नहीं है। आपको बात दे की एक ऐसा भी देश है जहा मच्छर नहीं होते है और न ही मच्चर से होने वाली बीमारिया होती है।

ये देश उत्तर अटलांटिक महासागर में  स्थित एक आइसलैंड है और ये एक ऐसा देश है जहा मच्छर,साप और बाकी के रेंगने वाले जीव नहीं पाए जाते है । लेकिन आपको बता दे की , यहाँ कुछ मकड़ियों की प्रजाति पायी जाती है। लेकिन इनमे से कोई भी इंसानो के लिए हानिकारक नहीं है। आइसलैंड के अलावा अंटार्कटिका भी  ऐसी जगह में से एक है जहा मच्छर नहीं होते है। इस आइसलैंड में बहुत ठंड होती है । माना जाता है की यहां के मौसम के कारन मच्छर जीवित नहीं रह पाते है।

एक रिसर्च के अनुसार इस आइसलैंड में मच्छर बिल्कुल भी नहीं होते है। लेकिन यहाँ पडोसी देशो में मच्छर पाए जाते है।  इस देश में मौसम तेजी से बदलता है जिसकी वजह से  मच्छर समय पर अपनी लाइफ साइकल को पूरा नहीं कर पाते है।  यहाँ जब तापमान गिरता है और पानी में बर्फ जम जाती है इस वजह से मच्छर का प्यूपा पूरी तरह से विकसित नहीं हो पता  है जिसके कारन यहाँ के मच्छर पंप नहीं पाते है।

इसके अलावा एक कारण यह भी है की आइसलैंड में बहुत कम तापमान होता है। यहाँ का पानी आसानी से फ्रिज हो जाता है, जिससे मछरो का प्रजनन असम्भव हो जाता है। इसके साथ , आइसलैंड में यात्रा करने वाले लोगो के लिए यह कहा जाता है की वह जंगल में कही भी बिना कीड़ो की चिंता किये बिना आसानी से घूम सकते है । लेकिन यहाँ  पूरी तरह से बेफिक्र होना भी ठीख नहीं है।

From Around the web