दिन में कई बार अपनी रंगत बदलता है ताजमहल ,जाने ताज से जुडी ऐसी ही अनोखी बातें

दिन में कई बार अपनी रंगत बदलता है ताजमहल ,जाने ताज से जुडी ऐसी ही अनोखी बातें

 
taj

ताजमहल दुनिया के 8 अजूबो में से एक है ताजमहल काफी सुन्दर है हर कोई अपने जीवन में एक बार ताजमहल जरूर देखना चाहता है ताज महल को शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज के लिए बनवाया था ये प्यार का प्रतीक है सिर्फ भारत के लोग ही नहीं इस खूबसूरत जगह को देखने के लिए दुनियाभर से पर्यटक आते हैं आज हम आपको ताज से जुडी कुछ ऐसी मजेदार जानकारी देने वाले हैं जो आप ने पहले कभी नहीं सुनी होगी 

taj

- ताज दिन में अपना तीन बार रंग बदलता है रोशनी और समय के आधार पर रंग में बदलाव देखने को मिलता है ताजमहल सुबह के वक्त गुलाबी और शाम के समय दूधिया सफेद और चांदनी में सुनेहरा दिखाई देता है ताजमहल का रंग दिन के समय कुछ और रात के समय कुछ होता है

- ऐसा सुनने में आता है कि शाहजहाँ ने मजदूरों के हाथ कटवा दिए थे ताकि इस जैसा स्मारक फिर से न बन सके इस बात में कितनी सच्चाई है इस बात के साक्ष्य अभी तक नहीं मिले हैं लेकिन ऐसा प्रतीत होता है कि श्रमिकों को न केवल अच्छी तनख्वाह दी जाती थी बल्कि ताजमहल के निर्माण के लिए उनका सम्मान किया जाता था

taj

- जड़ाई के काम के लिए कीमती पत्थरों का इस्तेमाल किया गया था जो लगभग 28 प्रकार के थे ये पत्थर श्रीलंका, तिब्बत, चीन और भारत के कई स्थानों से मंगवाए गए थे दीवारों में उकेरी गई सुलेख में कुरान के छंद शामिल हैं जिनमें स्वर्ग की बातें लिखी गई हैं

- ताजमहल के केंद्र में शाहजहाँ और मुमताज महल दोनों की कब्रें हैं दोनों को नीचे एक कक्ष में अचिह्नित कब्रों में दफनाया गया है क्योंकि इस्लाम में कब्रों की सजावट मना होती है

Also read:- अमेरिका और इटली की तरह भारत में भी एक महिला ने की खुद से शादी ,जाने क्या है पूरा मामला

taj

- ताजमहल आगरा में नहीं बनाया जाना था इससे पहले बुरहानपुर (मध्य प्रदेश) में बनना था जहां मुमताज की प्रसव के दौरान मृत्यु हो गई थी लेकिन दुर्भाग्य से बुरहानपुर में पर्याप्त संगमरमर की आपूर्ति नहीं हो पाई और इसलिए आखिर में आगरा में ताजमहल बनाने का निर्णय लिया गया

From Around the web