5 यूनिवर्सिटी में बनेगा रिसर्च पैनल-शाहजहां के बड़े बेटे कॉलेज पर शिकोह का बयान

5 यूनिवर्सिटी में बनेगा रिसर्च पैनल-शाहजहां के बड़े बेटे कॉलेज पर शिकोह का बयान

 
.

तीन साल पहले 2019 में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ यानी RSS के सह सरकार्यवाह कृष्ण गोपाल के द्वारा मुगल बादशाह शाहजहां के बड़े बेटे कॉलेज पर शिकोह का बयान दिया गया था। शाहजहां हमेशा से चाहते थे कि दारा शिकोह ही उनके उत्तराधिकारी बने। पिछले कुछ सालों के दौरान सरकार ने दारा शिकोह के प्रचार में तेजी दिखाई है। हाल ही में संघ ने दारा के ऊपर रिसर्च प्रोजेक्ट भी शुरू किया है। आने वाले दिनों में संघ दारा के विचारों को आगे बढ़ाने के और भी नए प्रोजेक्ट शुरू करेगा।

मीडिया रिपोर्ट्स में इस बात का जिक्र है की संघ पिछले कई सालों से औरंगजेब के बड़े भाई दारा शिकोह को ‘सच्चा मुसलमान’ बताते हुए उनके जीवन और शिक्षा को बढ़ावा देने की कोशिश में लगा है।2017 में संघ प्रचारक चमल लाल की स्मृति में आयोजित कार्यक्रम में दारा शिकोह पर चर्चा हुई थी। इसके बाद 2019 में दारा शिकोह प्रोजेक्ट का काम संघ के सह सरकार्यवाह कृष्ण गोपाल को सौंपा गया। गोपाल इस संबंध में कई बैठकें और वर्कशॉप आयोजित कर चुके हैं।इस प्रोजेक्ट के तहत दारा शिकोह के कामों पर रिसर्च होगी और उनकी किताबों को अलग-अलग लैंग्वेजेज में ट्रांसलेट किया जाएगा।इस पैनल में हिंदू इतिहास और आस्था पर रिसर्च करने वाले मुस्लिम और ईसाई विद्वानों और शिक्षाविदों को शामिल किया गया है।

जल्द ही जामिया मिलिया इस्लामिया, मौलाना आजाद नेशनल उर्दू यूनिवर्सिटी, दिल्ली यूनिवर्सिटी, जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी भी इसी तरह का पैनल बनाने जा रहा है।नेशनल काउंसिल फॉर प्रमोशन ऑफ उर्दू लैंग्वेज, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी और मौलाना आजाद नेशनल उर्दू यूनिवर्सिटी को दारा शिकोह पर रिसर्च में RSS की मदद के लिए जोड़ा गया है।

साथ ही भारत इस्लामिक कल्चरल सेंटर को इस मामले पर मुस्लिम बुद्धिजीवियों के साथ संपर्क बढ़ाने का काम सौंपा गया है।संघ दारा को उदार मुस्लिम चेहरा मानता है, इसलिए उन्हें मुस्लिमों के लिए एक आदर्श के तौर पर प्रमोट करना चाहता है।संघ आज के समय में दोनों धर्मों के बीच समन्वय के धागे तलाश रहा है।

From Around the web