यह इतिहास की दुनिया की सबसे महंगी चाय है जिसकी कीमत 9 करोड़ रुपये प्रति किलो है; यहां वह सब कुछ है जो आप जानना चाहते हैं

यह इतिहास की दुनिया की सबसे महंगी चाय है जिसकी कीमत 9 करोड़ रुपये प्रति किलो है; यहां वह सब कुछ है जो आप जानना चाहते हैं

 
.

यह महंगा है क्योंकि यह दुर्लभ है और इसलिए महंगा और विशिष्ट है। चीन के फ़ुज़ियान प्रांत के वुई पर्वत में, दा-होंग पाओ उगाया जाता है। इस चाय के बहुत से स्वास्थ्य लाभ हैं जिनके बारे में शायद आप भी नहीं जानते होंगे भारतीयों के लिए, चाय भावनाओं को जगाती है। जिस देश में चाय को पूजा जाता है, वहां चाय सिर्फ एक पेय से कहीं बढ़कर है। दुनिया भर में फ्लेवर्ड चाय के कई अलग-अलग फ्लेवर उपलब्ध हैं, लेकिन क्या आप सबसे महंगी चायपत्ती से परिचित हैं?

यहां हम आपको दुनिया की सबसे महंगी चाय के बारे में बता रहे हैं, जिसकी कीमत आपको हैरान कर देगी।दा होंग पाओ चाय के नाम से जाना जाने वाला चीनी पेय इतिहास की सबसे महंगी चाय है। इस चायपत्ती का नाम दुनिया में कहीं भी मिलने वाली सबसे महंगी चाय में से एक है। 2016 में, प्रत्येक पॉट की कीमत 6,72,000 रुपये थी।आप वर्तमान में इसके मूल्य का अनुमान लगा सकते हैं। संक्षेप में, इसकी कीमत सोने से 30 गुना अधिक है।यह महंगा है क्योंकि यह दुर्लभ है और इसलिए महंगा और विशिष्ट है। चीन के फ़ुज़ियान प्रांत के वुई पर्वत में, दा-होंग पाओ उगाया जाता है। इस चाय के बहुत से स्वास्थ्य लाभ हैं जिनके बारे में शायद आप भी नहीं जानते होंगे।

इस वजह से करोड़ों में है इसकी कीमत

इस चायपत्ती के इतना महंगा होने की वजह है इसका आसानी से न मिलना। चीन में इसके अभी सिर्फ 6 प्लांट ही बचे हैं। इनसे भी साल भर में बहुत ही कम मात्रा में ये चायपत्ती मिल पाती है। डा-होंग पाओ टी (Da-Hong Pao Tea) की पत्तियां काफी कम मात्रा में होती हैं। ऐसे में इसकी ओरिजनल पत्तियां काफी महंगी आती है। कई जगहों पर इस पत्ती के 10 ग्राम के लिए लोग 10 से 20 लाख रुपये तक चुकाते हैं। सिर्फ एक ही ख़ास पेड़ से इसकी पत्तियां चुनी जाती है। आम चायपत्ती की तरह इसकी खेती नहीं की जाती है। चीन इसकी पत्तियों का सौदा कर अच्छा मुनाफ़ा कमाता है।

From Around the web