पिता ने बेटी को दहेज में दिया बुलडोजर, आय का जरिया बनेगा यह

पिता ने बेटी को दहेज में दिया बुलडोजर, आय का जरिया बनेगा यह

 
.
बेटी को दहेज में मोटरसाइकिल और कार देने के कई किस्से सुने होंगे, लेकिन यूपी के हमीरपुर में पूर्व फौजी ने दहेज में बेटी को बुलडोजर चला दिया। वह कहते हैं, 'गाड़ी दे देते तो खड़ी रहती, लेकिन बुलडोजर से कमाई होती। बेटी को भी दामाद से पैसे नहीं मांगने पड़ेंगे। दो-तीन लोगों को रोजगार भी मिलेगा। बुलडोजर की कीमत करीब 30 लाख रुपए है।

दूल्हा एयरफोर्स में है।

मामला सुमेरपुर थाना क्षेत्र के देव गांव का है। यहां रहने वाला विकास उर्फ ​​योगेंद्र वायुसेना में है। उनके पिता स्वामीदीन चक्रवर्ती ने योगेंद्र की शादी पास के एक पूर्व सैनिक परसराम प्रजापति की बेटी नेहा से तय की। नेहा सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रही हैं।

15 दिसंबर को शादी थी

नेहा-योगेंद्र की शादी 15 दिसंबर को शिव लॉन गार्डन गेस्ट हाउस में बड़ी धूमधाम से हुई।सुबह जब विदाई हुई तो दुल्हन के पिता ने दहेज में बुलडोजर देकर सबको चौंका दिया। दूल्हे के पिता स्वामीदीन ने बताया, 'बहू के पिता ने हमें बुलडोजर देने की बात कही थी। हम भी उनसे सहमत थे। तोहफे में बुलडोजर देख बाराती भी हैरान रह गए। कई लोग उनके साथ सेल्फी लेने लगे।also read:जानिए भारत की श्रापित नदियों के बारे में,छूते ही नष्ट हो जाएंगे सारे पाप

पिता का तर्क

दुल्हन नेहा ने बताया कि इसके पीछे पिता का तर्क है कीअगर दहेज के लिए कोई कार दी गई होती तो वह अंदर खड़ी रहती।परंतु अब बुलडोजर आय का जरिया बनेगा। मैं हूं सिविल सेवा की तैयारी कर रही है। मुझे भी पति से पैसे नहीं मांगने पड़ेंगे।

दूल्हे योगेंद्र का कहना है

दूल्हे योगेंद्र का कहना है, वह ससुर फौजी रह चुके हैं। एक सैनिक कितने दिनों तक घर पर रह सकता है? उन्हें इस बात की पूरी जानकारी है। इसलिए उसने कार की जगह बुलडोजर देना सही समझा। उनका कहना है कि दो लोगों को रोजगार भी प्रदान करेगा।अगर मैंने कार खरीदी होती तो इसे चलाने का कोई समय नहीं होगा।

From Around the web